Tag: poetry

माँ-बाप बूढ़े हो जाते है… Nice Poemमाँ-बाप बूढ़े हो जाते है… Nice Poem

देखते ही देखते जवान, माँ-बाप बूढ़े हो जाते हैं.. सुबह की सैर में, कभी चक्कर खा जाते है, सारे मौहल्ले को पता है, पर हमसे छुपाते है… दिन प्रतिदिन अपनी,

अम्माँ अम्माँ यहाँ आ जाओ by Rasika Agasheअम्माँ अम्माँ यहाँ आ जाओ by Rasika Agashe

अम्माँ अम्माँ यहाँ आ जाओबाहर बिखरी धूप बटेरोंछन छन छन जो गिरती हैउसका एक पहाड़ बनाओ अम्माँ अम्माँ यहाँ आ जाओआओ बादल फूँकते हैंयहाँ वहाँ जो रुई रुई हैमुट्ठी में