Tag: poem

माँ-बाप बूढ़े हो जाते है… Nice Poemमाँ-बाप बूढ़े हो जाते है… Nice Poem

देखते ही देखते जवान, माँ-बाप बूढ़े हो जाते हैं.. सुबह की सैर में, कभी चक्कर खा जाते है, सारे मौहल्ले को पता है, पर हमसे छुपाते है… दिन प्रतिदिन अपनी,