थोड़ा- सा सुख

रोज़  की तरह  उजली  और कलिका अपने स्कूल  जा रही थीं। सामने  से बूढ़ी  संतो ताई आती  दिखाई  दी तो कलिका ने कहा -” लो ,…